Short Ganesh Poem in Hindi | गणेश जी पर कविता और शायरी

Here are 4 beautiful Short Ganesh Poem in Hindi, ganpati ki Poem. Ganpati bappa morya.  गणेश जी पर कविता और शायरी इन हिंदी

Ganesh Chaturthi Images Free Download HD- CLICK HERE


lord Ganesh Poem in Hindi
ganesh ji Poem

गजानन 

महाराष्ट्र के गांव से ,बही भक्ति की धार 
प्रकट गजानन प्रभु हुए ,ईश्वर के अवतार 


ईश्वर के अवतार ,चमत्कारी थे स्वामी 
करें  कामनापूर्ण सभी की ,अंतर्यामी 


कह भगवत कविराय,पूज्य संपूर्ण राष्ट्र के 
ईश्वर के अवतार ,गजानन महाराष्ट्र के 
----------------------------------------------------------------------------------------


गजानन 

हुए गजानन अवतरित ,धन्य हुआ शेगाँव 
तीर्थ बनी ,पावन धारा,पड़े संत के पाँव 


पड़े संत के पाँव ,चिलम से आग झराई 
धू -धू जलती खाट ,आप बैठे थे साई 


कह भगवत कविराय ,स्वयं थे विटठल भगवान 
करने जन -कल्याण ,प्रगट प्रभु हुए गजानन 
----------------------------------------------------------------------------------------------

गजानन 

एक लँगोटी के सिवा ,तन था वस्त्र विहीन 
राख लपेटे देह पर ,जिन्हे परमप्रिय दीन 


जिन्हे परमप्रिय दीन ,कृपानिधि संत गजानन 
जन्मस्थल है तीर्थ ,आज शेगाँव  सुपावन 


कह भगवत कविराज ,शीश पर लम्बी चोटी 
सबको दे धन -धान्य ,स्वयं को एक लँगोटी 
-------------------------------------------------------------------------------------

गजानन 

निकट अलोका शहर से ,जाते है शेगाँव 
स्टेशन है रेल का ,वही गजानन -ठाँव 


वही गजानन -ठाँव ,जिला जिसका बुल्ढाना 
महाराष्ट्र में तीर्थ बना यह जाना -माना 


कह भगवत कविराय ,विपत्ति में जब मन डोला 
पहुँच गये शेगाँव ,बसा जो निकट अकेला 
------------------------------------------------------------------------------------------ 
Reactions

Post a Comment

0 Comments